Sunday, 22 April 2018






जैसे कबीर ने शायद कभी कहा होगा _
वह जहाँ भी रहें खुश रहें , आबाद रहें 
अपना तो क्या है _ आपके क़दमों में रहें 
तो आबाद क्या, बरबाद रहें,
सब एक ही है!


गुरु चरणों में नत मस्तक प्रणाम !


___________________________________________________________________



Saturday, 3 March 2018




तेरे कूचे में रहने को घर जो मिला 
यह कर्म था तेरा मुझपर
अब इस सुकूने शान को छोड़कर चला जाऊँ 
वह  फरेब मुझ में नहीं 
न ही तेरे कर्म को नाकारा कर दूँ 
यह जिल्लत मैं न उठाऊँगा. 
सच कहूं जो खुशी  मुझे यहाँ  मिलती  है 
वह दुनिया के सारे  ग़मों  से बढ़कर है !

________________________________________________________________



Wednesday, 10 January 2018


गुरुकृपा 



                               हमने तो अपनी जिंदगी में जब से गुरुवर को पाया 
तो यह समज में आया है की गुरुकृपा बिना हम कुछ भी नहीं 
   और  
दूसरी बात _
"मारी तो गाडी चाले राम के भरोसे जी "



      ------------------------------------------------------------------------------------------------

गुरुदेव की तस्वीर अमृतवाणी सत्संग प्रेमी की और से ली गयी है  - उन्हें सादर धन्यवाद !


Sunday, 10 September 2017






नहीं कोई मंझिल थी मेरी फिर भी तेरा दर पा गया 
न थी मेरी आस्था इतनी फिर भी तुझे ढूंढ लिया 
मेरे कदमों ने खुद ही तय किया की तू ही मेरी मंज़िल है !
....यह मैंने नहीं किया !
यह कृपा तेरी ही है की मेरा सर तेरे सामने झुक गया है !


Sunday, 3 September 2017




तेरा कुछ भी नहीं सब कुछ है 
मेरा कुछ भी नहीं इक तू ही है 


____________________________________________________
________________________________________








Sunday, 11 June 2017










तेरा मेरा क्या रिश्ता?
जो तू है , मैं वही हूँ 
तेरा मेरा यह रिश्ता!





____________________________________

गुरुदेव की तस्वीर एक सत्संग प्रेमी की है!





Wednesday, 8 February 2017




जिसके भाग्य में तेरा दर लिखा है
उसे कहाँ फिर कहीं जाना है 







__________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________