Sunday, 11 June 2017










तेरा मेरा क्या रिश्ता?
जो तू है , मैं वही हूँ 
तेरा मेरा यह रिश्ता!





____________________________________

गुरुदेव की तस्वीर एक सत्संग प्रेमी की है!





Wednesday, 8 February 2017




जिसके भाग्य में तेरा दर लिखा है
उसे कहाँ फिर कहीं जाना है 







__________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________











Monday, 13 June 2016

                                                         



 ऐ खुदा , तेरी रहमत बड़ी की तू बड़ा है 
                                                          नहीं जानता मैं ,
                                                          बस इतना समझ लिया है की
                                                          तू मेरे साथ खड़ा है !   






___________________________________________________________

__________________________________________________________________






Friday, 3 June 2016


रिझाना 

क्या खूब शब्द है रिझाना ! प्रेमी प्रेमिका को रिझाना चाहता है ! चकोर चाँद को रिझाना चाहता है ! शिष्य अपने गुरु को रिझाना चाहता है !  क्या करें ?  प्रेम का आलम ही कुछ ऐसा है !

आमिर खुशरो अपने मुर्शिद निजम्मुद्दीन औलिाया के दरबार की झूठी प्लेटें चाटना ही अपनी खुशकिस्मती समझते हैं !

हज़रात निजामुद्दीन औलिया  और आमिर खुशरो 

जलाल-उद्दिन  रूमी अपने गुरु शम्स तबरेज़ से इतनी मुहब्बत करता है कि वह उनमें और अपने में 
फरक ही नहीं कर सकता !


                                                                     जलाल - उद्दीन  रूमी 

बुल्ले शाह 
जब गुरु हज़रात शाह इनायत खान, बुल्ले शाह से किसी बात पे बहुत ही गुस्सा हो गए और अपना मुंह तक नहीं दिखाने को कहा, तो अपने रूठे हुए गुरु शाह इनायत खान क़ादरी का वियोग बुल्ले शाह नहीं सह सके ! कोई उन्हें सलाह देता है की तुम्हारे गुरु को नाच गाना बहुत ही पसंद है ! तो अपने गुरु को रिझाने के लिए बुल्ले शाह नाच सीखते हैं और अपने आप को नाचने वाली औरतों की टोली में छुपाते  हुए गुरु दरबार पहुँच जाते हैं ! डर के मारे वह दूर से नाचते हैं , गुरु के पास नहीं आते ! पर गुरु बुल्ले शाह को पहचान ही लेते हैं ! बुल्ले शाह की बेसब्री, प्रेम , वियोग और नाच ने उनके क्रोधित गुरु का दिल आखिर पिघला ही दिया !  

पर हमें कहाँ ऐसे अहोभाग्य की प्राप्ति है ? हमारा मन तो बड़ा बेईमान है ! दिल भी खोटा रखते हैं ! हम अपने गुरुदेव को रिजाने  के लिए जो सच्चा मन चाइये, वह कहाँ से लाएं ? 



गुरुदेव स्वामी राजेन्द्रजी महाराज 

____________________________________________________________________________________________________________

गुरु चरणों में !

अन्य फोटो क्रेडिट्स : गूगल से  फ्री  इमेजेज !

गुरुदेव स्वामी राजेन्द्रजी महाराज : अमृतवाणी के एक प्रेमी की कृपा से !





Wednesday, 18 May 2016





The long line of scriptures, sages, and seers
All proclaim the Truth.
But sometimes it takes a whole lifetime,
To open one's eyes to That!

We come into this world of physical science and matter, 
Where we measure happenings through our pitiful standards,
Little knowing that it takes but a plunge,
Into deep waters, to reach the other shore.

All along the route the signs point the way
Sometimes tripping you up,
Sometimes pushing you along.

And sometimes appears a saint, 
Who kindly give you His hand.
And you trot after Him,
Stumbling and prancing like a child.
______________________________________________________________________
______________________________________________________________________________





Sunday, 15 May 2016



Translation of  previous post :



You are on this side of the shore,
You are on the other side of the shore too.
Then where is the joy, 
And where is the sadness! 
You are with me in my victory
And You are also with me in my defeats!


When I opened my eyes I found You,
Then what is left to be seen!
Then why should I cry, I did not get anything
Why should I tell all, I did not get anything 
I did not get anything, I did not get anything.


You are this world that I see, You are also not this world
Then where is the joy and where the sadness
You are on this side of the shore and You are on the other side of the shore too !


___________________________ Devidas.


______________________________________________________________________________




Wednesday, 11 May 2016


इस पार भी तुम, उस  पार भी तुम
                                                        फिर कैसी ख़ुशी, और फिर कैसा ग़म 
                                                       मेरी जीत में भी तुम, मेरी हार में भी तुम !

जब आँखें खुलीं मैंने पाया तुम्हें 
फिर रह गया क्या अब देखने को !
फिर क्यों तड़पूं,  मुझे कुछ न मिला
यह कहता फिरूं,  मुझे कुछ न मिला 
मुझे कुछ न मिला, मुझे कुछ न मिला !

                                                        संसार भी  तुम, न संसार  भी तुम  
                                                        फिर कैसी ख़ुशी , फिर कैसा ग़म 
                                                        इस पार भी  तुम,उस पार भी तुम ! 

                                                                                                           -----------------देवीदास कृत 

______________________________________________________________________________________________